घर द्वार स्वास्थ्य सेवा उपलब्ध करवाने के लिए हिमाचल में ई- संजीवनी ओपीडी शुरू

हिमाचल प्रदेश सरकार प्रत्येक प्रदेशवासी को स्वास्थ्य सुविधा घर द्वार पर उपलब्ध करवाने के लिए कृतसंकल्पित है, इसी उद्देश्य की पूर्ति के लिए प्रदेश में आज ई-संजीवनी ओपीडी आरम्भ कर दी गयी है । कोविड-19 संक्रमण के निवारक उपायों के रूप में जहां सभी नागरिकों को घर पर रहने के लिए कहा जा रहा है , वहीं बीमार लोग अस्पताल आने में असहज महसूस कर रहें हैं , उनकी इस समस्या के मध्यनजर प्रदेश सरकार और स्वास्थ्य विभाग ने eSanjeevaniOPD.in ओ.पी.डी. के रूप में अनूठी पहल कर लोगों को सामान्य स्वास्थ्य परामर्श देने का निर्णय लिया हैं ।
यह जानकारी देते हुए अतिरिक्त मुख्य सचिव (स्वास्थ्य) आर.डी.धीमान ने बताया कि प्रदेश के विभिन्न मेडिकल कॉलेजों के सोलह डॉक्टर सभी कार्य दिवस पर प्रातः साढ़े नौ बजे से सांय चार बजे तक निःशुल्क स्वास्थ्य परामर्श की सुविधा प्रदान करने के लिए उपलब्ध रहेंगे।
उन्होंने आगे जानकारी देते हुए बताया कि इस सुविधा का लाभ उठाने के लिए कंप्यूटर – लैपटॉप या टेबलेट के साथ वेब कैमरा , माइक , स्पीकर और इंटरनेट कनेक्शन कि जरूरत होगी और शीघ्र ही यह सुविधा मोबाइल फोन पर भी उपलब्ध करवा दी जायेगी । मेंदरममअंदपवचकण्पद पर रोगी को पंजीकृत करने के बाद एक टोकन नम्बर मिलेगा , जिससे सवहपद करने के बाद डॉक्टरी परामर्श की प्रक्रिया आरम्भ होगी । यदि आपके परामर्शदाता डॉक्टर को विशेषज्ञीय सलाह की आवश्यकता महसूस होती है तो टेली परामर्श सुविधा का भी प्रयोग किया जा सकता है , अन्यथा आपकी समस्या या बिमारी का निदान त्वरित गति से मौके पर ही हो जाएगा ।
इसके अतिरिक्त उन्होंने आगे जानकारी देते हुए बताया कि आज प्रदेश भर में कुल 370 लोगों के सैम्पल जांच हेतु लिए गए, जिसमें से 74 सैम्पल की जांच रिपोर्ट नेगेटिव पायी गयी है एवं 296 सैंम्पल की जांच रिपोर्ट आना अभी बाकी है। प्रदेश में इस समय तक 2902 लोगों की जांच की जा चुकी है जिसमें से 39 व्यक्तियों में इस संक्रमण कीपुष्टि हो चुकी है एवं 2567 लोगों की रिपोर्ट नेगेटिव पाई गई है। अभी तक प्रदेश में 7576 लोगों को सुरक्षा के दृष्टिगत निगरानी में रखा गया था , जिसमें से 5308 लोग 28 दिनों की निर्धारित निगरानी अवधि को पूर्ण कर स्वस्थ हैं एवं 2268 लोग अभी भी निगरानी में हैं।
उन्होंने आगे जानकारी देते हुए बताया कि प्रदेश में ।eSanjeevaniOPD.in अभियान के अन्तर्गत विभिन्न स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं ने लगभग 70 लाख लोगों के घरद्वार जाकर कोविड-19 के प्रति मौखिक जांच की है। इस जांच में 10,000 के करीब प्स्प् के केसिस निकलकर आएं है जिनमें 700 के करीब लोगों के सैंम्पल की जांच भी की जा चुकी है एवं विभिन्न श्रेणीयों के लोगों का ईलाज भी किया जा रहा है एवं उन्हें निगरानी में भी रखा जा रहा है। इस अभियान में लगभग 16700 कर्मचारियों ने भाग लिया और इस काम को समयबद्ध तरीके से सम्पन्न किया।