शिमला शहर को बनाए हेल्थ डेस्टिनेशन

शिमला शहर हिमाचल प्रदेश की राजधानी है और शिमला शहर उस समय का शहर है जब अंग्रेजों ने भारत पर शासन किया था और शिमला को भारत का समर कैपिटल बनाया था

शिमला के अंदर अंग्रेजों ने वह ऊर्जा देखें जो उनको अपने वतन इंग्लैंड के साथ जोड़ते थी आज शिमला शहर किस दिशा में जा रहा है उसके लिए हमें आत्म चिंतन करना जरूरी है।

शिमला शहर को जो बनाया गया था तो इसे हेल्थ डेस्टिनेशन के रूप में तैयार किया गया था यहां पर चलने फिरने के अनेकों विकल्प थे जिससे व्यक्ति शारीरिक और मानसिक रूप से स्वस्थ रहता था।

पैदल चलने के अनेकों रस्ते शिमला शहर में थे और अगर यहां के पूर्वजों से पूछो तो जाखू मंदिर जाने के लिए खच्चर मार्ग तत्तापानी जाने के लिए पैदल चलने का रास्ता संजौली न्यू शिमला छोटा शिमला को सड़क मार्ग जिस पर पदयात्री चल सके उस से जोड़ना इस प्रकार से शिमला शहर को बनाया गया था।

आज है शहर अपनी चमक दमक हो रहा है हमें कहीं ना कहीं इस शहर को वापस उसी रूप में खड़ा करना होगा जिस प्रकार से इसकी स्थापना की गई थी।